• शुक्र. जून 18th, 2021

‘कोई आराम नहीं’: दिल्ली में कोरोना मरीजों की बढ़ती लाशों के बोझ से जूझ रहे श्मशान घाट के कर्मी

Byadmin

मई 6, 2021

Delhi में कोरोना की पिछली लहर के दौरान गाजीपुर शवदाह गृह के 15 में से 5 कर्मी भाग गए थे. कोरोना की दूसरी लहर में तो मौतों की संख्या काफी बढ़ गई है.

नई दिल्ली: दिल्ली में कोरोना की दूसरी लहर में बढ़ती मौतों की तादाद से श्मशान घाट के कर्मी (Delhi Crematorium Workers) भी जूझ रहे हैं. पूर्वी दिल्ली के गाजीपुर शवदाह गृह में 19 साल का श्मशान घाट कर्मी ने दोपहर में 7वीं चिता के लिए सारे प्रबंध कर रहा था. यह लंच के पहले का वक्त था. उसे कोविड मरीजों (Covid Patients Body) के शवों को लेने की जिम्मेदारी सौंपी गई है. वह केवल मास्क पहनता है. पीपीई किट तो उसे कभी भी मयस्सर नहीं हुई. वह कोरोना मरीजों की चिंताओं के इतने नजदीक खड़े होना पड़ता है कि प्लास्टिक की पीपीई किट (PPE suit) वह पहन ही नहीं सकता. एक शख्स ने नाम न बताने की शर्त पर कहा, रोजाना रात 12.30 बजे तक कोई वक्त नहीं मिलता. उसके बाद ही हम खाते और सोते हैं. और सुबह 5 बजे उठना पड़ता है, ताकि राख को हटाया जा सके और पीड़ित परिवारों को दे सकें. फिर सुबह 10 बजे फिर अंतिम संस्कार की प्रक्रिया शुरू की जाती है. यूपी के अयोध्या का रहने वाला ये शख्स रोजाना 12 घंटे से ज्यादा काम करता है और शवदाह गृह में ही सोता है.

पिछले साल कोरोना की पहली लहर के दौरान गाजीपुर श्मशानघाट (Ghazipur crematorium) के 15 में से 5 कर्मी भाग खड़े हुए थे. 19 साल के उस व्यक्ति ने बताया, वो ये जिम्मेदारी छोड़कर अचानक नहीं जा सकता. अगर वो गया तो शव लेकर यहां आने वाले लोगों को परेशानी होगी. वह पिछले दो माह में तीन बार ही शवदाह गृह छोड़कर कहीं गया है. उसे कोरोना से रिकॉर्ड मौतों के बीच 24 घंटे शवदाह गृह में ही मौजूद रहना पड़ता है. उत्तर प्रदेश से भी तमाम लाशें यहां आती हैं.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *