• गुरु. अगस्त 5th, 2021

ग्वालियर में सिंधिया के पुश्तैनी महल में चोरी, दस्तावेजों को खंगाला और पंखा चुरा ले गए चोर

Byरवि बहल

मार्च 17, 2021

ग्वालियर में बीजेपी सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के पुश्तैनी महल जयविलास पैलेस में चोरी हुई है। कड़ी सुरक्षा के बावजूद चोर रोशनदान के रास्ते रानी महल के रेकॉर्ड रूम में घुसे और एंटीक पंखा चुरा कर ले गए। रेकॉर्ड रूम की अलमारी का ताला टूटा हुआ मिलने से पुलिस को अंदेशा है कि चोरी किसी खास दस्तावेज की तलाश में आए थे।

ग्वालियर
बीजेपी के राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के पुश्तैनी महल जयविलास पैलेस में चोरी हुई है। मध्य प्रदेश के ग्वालियर में स्थित जयविलास पैलेस में चोरों ने रानी महल के रेकॉर्ड रूम पर धावा बोला। कड़ी सुरक्षा के बावजूद चोर रोशनदान के रास्ते रेकॉर्ड रूम में घुसे और वहां रखे दस्तावेजों को खंगाला। चोर वहां से एक पंखा और कंप्यूटर का सीपीयू चुरा कर ले गए। सिंधिया महल में चोरी का पता बुधवार दोपहर करीब साढ़े बारह बजे चला। दोपहर करीब ढाई बजे पुलिस को चोरी की सूचना दी गई। जयविलास पैलेस में 10 साल पहले भी चोरी हुई थी। उस समय भी चोरों ने रेकॉर्ड रूम को ही निशाना बनाया था और कुछ दस्तावेज चुरा ले गए थे, लेकिन पकड़े नहीं जा सके थे।

सूत्रों का कहना है कि रानी महल में जब भी सिंधिया घराने का कोई आता है तो फोटोग्राफ लिए जाते हैं। इन्हीं फोटोग्राफ्स से बाद मिलान किया जाता है कि सभी वस्तुएं व्यवस्थित हैं। बुधवार को जब किसी फाइल की आवश्यकता पड़ी तो वह अपने स्थान पर नहीं मिली तो फोटोग्राफ से मिलान किया। इससे पता चला कि स्टोर में लगा पंखा गायब है और फाइलें अव्यवस्थित हैं। इसके आधार पर चोरी होने का अंदेशा जताया गया। रेकॉर्ड रूम की अलमारी का ताला भी टूटा हुआ मिला।

घटना की सूचना मिलते ही पुलिस फॉरेंसिक एक्सपर्ट अखिलेश भार्गव के साथ फिंगर प्रिंट टीम और स्निफर डॉग्स के साथ घटनास्थल पर पहुंची। शुरुआती जांच में पुलिस को अंदेशा है कि चोर किसी दस्तावेज की तलाश में आए थे। इसीलिए, रेकॉर्ड रूम के अंदर सारे दस्तावेद उथल-पुथल हालत में मिले हैं। चोर एक पुराना पंखा और कम्प्यूटर का सीपीयू ले गए थे। थोड़ी देर बाद पुलिस को महल की छत सीपीयू पड़ा मिला।

एसपी अमित सांघी ने बताया कि पुलिस की टीम ने घटनास्थल की जांच की है और चोर जल्द ही पकड़े जाएंगे। पुलिस यह पता भी कर रही है कि जयविलास पैलेस में इतनी कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बाद भी चोर अंदर कैसे पहुंच गए।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *